First Sight

"Eagerness to repeat the days made me guilty of love, then if love is not to be worshiped then what is meant for?"

Advertisements

Janvi & Animesh – 2

My first step in that orphanage was a strange feel, but there was Janvi next to me. I slowed down and Janvi hurried up to embrace kids. I kept looking at her; her simplicity and acts of being childish among them, I couldn't deny I fall in love with right girl. She was playing with them, listening to their complaints, perhaps this she wished every year and determined. She had her own world in time we had spent.

गुनगुनाहट

"रूबरू हो जाने की महत्वाकांक्षा उस गुनगुनाहट में घुल कर शब्दो की नदियों के सहारे उन रंगीन बादलों की ओर बढे जा रहे थे। और बादलो ने जैसे मेरी सिफारिश अपने आका से कर दी, नज़रे घूमी ही थी कि उस चेहरे का दीदार नज़रो में समाकर दिल में उतरकर किस्मत की तारीफ़ें करवा चुका था।"

जानवी & अनिमेष – 2

मैंने उस दिन कुछ नहीं सोचा था पर अब छिपा भी नहीं पा रहा था। आखिरकार मैंने कह दिया जो मैं उससे पिछले छः महीनो से कहना चाहता था। मैंने उससे सब कुछ कह दिया जो भी मेरे मन में चल रहा था, जितना भी कह सकता था उसे पहली नज़र में देखने से लेकर उस दिन तक।

Create a website or blog at WordPress.com

Up ↑