हिमानी और जीतन

दो जवान दिल - हिमानी और जीतन, सब कुछ सही सा था, आपसी समझदारी खासकर, बस प्यार को जगह नहीं थी, लेकिन फिर भी दिल धड़क उठा जीतन का...

दोस्त, मुझे क्यों तुमसे नफरत होती हैं

मेरे प्रिय मित्र, क्यों मैं तुमसे नफरत करता हुँ? मैं बस सोच से नफरत करता हूँ कि मुझे लगता है कि तुम अच्छे दोस्त नहीं हो, फिर तुम्हारा दोहराना, मजबूर करता है कहने को मैं तुमसे नफरत करता हूँ...

Friend, I hate you

Why do I hate you my dear friend...? I just hate to the thought makes me to think that you are no more good friend, yet you repeat makes me to say I just hate you. I just hate...

Earphones

एक साथ करीब एक घंटे का सफर तय करना था उन दोनो को, हर रोज की तरह अपने ईयरफोन्स के साथ फिर वो एक दिन आया......

Unbroken Thread

At left its you and at right its me... There is your world, here is mine. Two different ends will never have meet. We know. Yet, the thread, weaken after  the time passed, has life. Pretty cool is your world, awesomeness is in my world too. We know. The thread got created when we spent time, got... Continue Reading →

मनन – मृणाली

​​ रुठे हुए मन और टुटे हुए दिल के साथ मनन अपनी जॉब के लिये बड़े शहर का रूख कर चुका था| मन हमेशा साथ तो नही देता था, पर नये लोगो के बीच अच्छा महसुस करने की कोशिश करता| नये लोग भी कुछ समय के लिये साथ थे, कुछ समय बाद हुए ट्रांसफर ने... Continue Reading →

यार, उसके पास वक़्त नहीं…

ऐ दोस्त, मेरी व्यस्तता का आलम ये तो नहीं, कि नकार दिया मैंने वक़्त बिताने को तेरे साथ, तुझसे जो कह दिया हो - यार, अभी नहीं और कभी सही... ना मनाही की ना नकारा, फिर भी न जाने क्यों कहता मन तेरा बेचारा, "भूल गया वो यारी अमीरी में, यार उसके पास वक़्त नहीं।"... Continue Reading →

कोशिश हम-तुम को समझने की… 

कोशिश हम-तुम को समझने की… हम जुदा रह नहीं सकते, हम खफा हो नहीं सकते, हम कुछ जुदा कह नहीं सकते, दोस्त माना हैं रूठ नहीं सकते… शिकायत नहीं कर सकते क्यूंकि मानते है तुम खास हो.. चाहत दोस्ती की बेपनाह है इस दिल में, हम हर आरज़ू , हर लम्हा जता नहीं सकते …... Continue Reading →

बारिश का मौसम…

बारिश का मौसम, तेज बारिश अपने आप को हर तरफ बिखरा देना चाहती थी| अपने घर की एक खिड़की से बारिश के सराबोर को वह महसुस करता जा रहा था| अचानक भरी-आवाज मे बिजली ने दस्तक दी और उसे बचपन के उस आगोश मे ले गई, जहाँ ऐसी ही किसी दस्तक ने पिता के दुलार... Continue Reading →

Create a website or blog at WordPress.com

Up ↑